हज्ज और उम्रा करने वालों से होने वाली गलतियाँ

36595 - मृतकों की ओर से क़ुर्बानी करना 128422 - उस व्यक्ति का हुक्म जिसने जमरात को कंकरी मारी फिर अपने देश में जाकर उसके लिए यह स्पष्ट हुआ कि वह सात कंकरी से कम थीं 112913 - उसने दसवीं तारीख को इफाज़ा और विदाई का तवाफ किया 109239 - क्या पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के लिए हज्ज करना जायज़ है ॽ 109232 - कुछ हाजी लोग मशाइर मुक़द्दसा (पवित्र स्थलों) में तस्वीरें लेते हैं 34154 - अरफा की पहाड़ी का नाम “जबल रहमत” (रहमत की पहाड़ी) रखने का हुक्म 34270 - यौमुत् तर्वियह को हज्ज का एहराम बाँधने में होने वाली गलतियाँ 33738 - एहराम बाँधनेवाले से होने वाली गलतियाँ 36577 - ऐसे मृतक बाप की ओर से हज्ज करना जो नमाज़ नहीं पढ़ता था 37995 - उसकी छोटी बच्ची ने दो चक्र तवाफ किया और बीमारी के कारण उम्रा मुकम्मल नहीं किया 85667 - तवाफे इफाज़ा भूल गया और अपने देश लौट आया और उसके लिए मक्का लौट कर जाना संभव नहीं हो सका 36647 - मस्जिदे नबवी की ज़ियारत में होनेवाली गलतियाँ 36860 - मस्जिदे नबवी की ज़ियारत के समय होनेवाली अवहेलनाएँ 111501 - मक्का से बार बार उम्रा करने का हुक्म, तथा मासिक धर्मवाली औरत के तवाफे इफाज़ा का हुक्म 11669 - उन मज़ारों और मस्जिदों पर जाना जिनमें अल्लाह के पैगंबर नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने नमाज़ पढ़ी है 122795 - उसने उम्रा किया और अनजाने में अपने बाल को नहीं मुँडाया और अपना कपड़ा पहन लिया 137928 - उन दोनों ने अज्ञानता में उम्रा के लिए चौदह चक्कर सई की, तो क्या उनका उम्रा सही है ॽ 134276 - एक ही सफर में एक से अधिक व्यक्ति के लिए उम्रा करना 34752 - मस्जिद नबवी में चालीस नमाज़ें पढ़ने की फज़ीलत के बारे में वर्णित हदीस ज़ईफ है 148212 - वह उम्रा को पूरा करने से पहले हलाल हो गया फिर कुछ दिनों के बाद वापस आकर उसे पूरा किया