NewFatwas

1 वह अपनी पत्नी से चाहता है कि वह बिना किसी कारण के रोज़ा तोड़ दे और बाद में क़ज़ा कर ले
2 अगर ईद जुमा के दिन पड़ जाए तो क्या करना चाहिए
3 ईद का दिन जुमा के दिन पड़ने के बारे में स्थायी समिति का फत्वा
4 तरावीह में इमाम का अनुपालन करना यहाँ तक कि वह फारिग हो जाए
5 जब कोई व्यक्ति इमाम के वित्र पर एक रकअत की वृद्धि करे ताकि वह वित्र बाद में पूरा करे
6 यदि कोई व्यक्ति इमाम के बाद नमाज़ पढ़ता है, तो क्या एक ही रात में दो बार वित्र पढ़ेगा?
7 एतिकाफ का सवाब
8 उसने दो साल रोज़े नहीं रखे और अब वह क़ज़ा करने में असक्षम है, तो उसे क्या करना चाहिए?
9 क्या वह रोज़े की हालत में अपनी सहेली का चुंबन कर सकती है?
10 क्या दस्त आने के कारण रोज़ेदार के लिए रोज़ा तोड़ना जायज़ है?
11 उसकी बेटी मिर्गी से पीड़ित है तो क्या वह उसे रमज़ान के दिन में दवा दे सकती है?
12 क्या एक अनुपात में शराब पर आधारित नाक का स्प्रे प्रयोग करना जायज़ है? और क्या उससे रोज़ा टूट जाता है?
13 एक रोगी हर दिन छह गोलियाँ लेता है, तो क्या वह रोज़ा तोड़ सकता है?
14 अस्थमा के लिए इनहेलर का इस्तेमाल रोज़ा नहीं तोड़ता है
15 रोज़े की कुछ सुन्नतें जिनकी पाबंदी करना रोज़ेदार के लिए एच्छिक है
16 रमज़ान के महीने में दूर स्थानों से उम्रा करने के लिए आनेवाले व्यक्ति का रोज़ा तोड़ देना
17 उसने रमज़ान के दौरान ऐसे देश का सफर किय जो महीने की शुरूआत में उसके देश से विभिन्न है।
18 उस आदमी के रोज़ा रखने और रोज़ा तोड़ने का हुक्म जिसकी गवाही रद्द कर दी गई हो या वह ज़िम्मेदारों को सूचना न दे सका हो
19 हम हरमैन शरीफैन (दो पवित्र मस्जिदों) के देश के लोग हैं, और एक मुसलमान एशियाई देश (पाकिस्तान) में दूतावास में कार्य करते हैं। क्या हम लोग सऊदी अरब के साथ रोज़ा रखेंगे या उस देश के साथ रोज़ा रखेंगे जिसमें हम निवास करते हैं?
20 मुसलमानों को चाँद देखने में एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए और उसकी दृष्टि के बारे में अधिकारियों को सूचना देना चाहिए
21 हदीस: (ऐ अल्लाह! रजब और शाबान में हमें बर्कत दे, और हमें रमज़ान तक पहुँचा) ज़ईफ है, सही नहीं है।
22 आधुनिक उपकरणों के द्वारा चाँद देखने में कोई आपत्ति नहीं है
23 मुसलमानों का रोज़ा रखने और तोड़ने में एकजुट होना एक शरई मांग है और इसे प्राप्त करने के तरीक़े का वर्णन
24 क्या रमज़ान का नया चाँद देखने में औरत की गवाही स्वीकार की जायेगी
25 वह अपने रोज़ों को खराब कर दिया करता था और उसे उन दिनों की संख्या पता नहीं है जिनके रोज़े उसने तोड़ दिए थे
26 क्या पति के लिए अपनी पत्नि के ऊपर सोग मनाना अनिवार्य है?
27 उस पर व्यभिचार का आरोप लगाया गया जबकि वह बेगुनाह है, और उसके पास अपनी बेगुनाही का कोई सबूत व प्रमाण नहीं है। तो वह क्या करे?
28 क्या वह अपनी बच्ची के रोने के कारण जमाअत की नमाज़ तोड़ सकती है?
29 नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का वुज़ू नींद से नहीं टूटता है।
30 अल्लाह से क्षमा याचना करना दिल के जीवन का कारण है
31 उसके कुछ साथियों ने उसके सतीत्व पर आरोप लगाया है तो उनकी क्या सज़ा है? और वह उनके साथ किस तरह व्यवहार करे?
32 क्या व्यवसाय नमाज़ को उसके समय से विलंब करने के वैध कारणों में से है?
33 इस्तिग़फार करना शरीर की शक्ति का कारण है
34 यदि कोई व्यक्ति भूल कर बिना वुजू के नमाज़ पढ़ ले, तो उसके ऊपर नमाज़ को दोहराना अनिवार्य है।
35 चित्र वाले पोशाक पहनने का हुक्म
36 उनका इमाम हकला है, जबकि कुछ मुक़तदी इस बात को गुप्त रखते हैं कि वह सबसे अधिक क़रआन का ज्ञान रखते हैं।
37 कब्रों पर मस्जिदें निर्माण करने का हुक्म
38 मूर्तियों को तोड़ने की अनिवार्यता
39 वुज़ू के दौरान नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की प्रतिष्ठा के माध्यम से दुआ मांगना
40 इबादत में रियाकारी का प्रवेश करना
41 इमामत का सब से अधिक हक़दार
42 क्या नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने किसी मुशरिक को क़त्ल किया?
43 हकलाने वाले व्यक्ति की इमामत का हुक्म
44 अल्लाह तआला के लिए उपासना की वास्तविकता
45 ज़िक्र और दुआ के दौरान आँखें बंद करने का हुक्म
46 ईसाइयों में से उस आदमी का हुक्म जिसने इस्लाम के बारे में नहीं सुना
47 सदाचारियों की प्रतिष्ठा और अल्लाह के यहाँ उनके स्थान के माध्यम से अल्लाह से सवाल करने का हुक्म
48 नमाज़ में आँखें बंद करने का हुक्म
49 क़ब्रों के पास नमाज़, तथा शफाअत की शर्तें
50 क्या पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने अली रज़ियल्लाहु अन्हु के लिए खिलाफत की वसीयत की थी?
51 महिला का अपने अभिभावक की अनुमति के बिना बाहर निकलना वर्जित है
52 क्रिसमस के एक महीने बाद भोजन की एक बैठक में ईसाइयों के साथ भाग लेना
53 जो आदमी किसी ख़तीब (वक्ता) को किसी गुमराही की ओर आमंत्रित करते या किसी बिदअत को मान्यता देते हुए सुने तो कैसे व्यवहार करे?
54 ईद मीलादुन्नबी का उत्सव, उसे मुसतहब समझने वालों के निकट एक धार्मिक उपासना है।
55 मुसलमान का अपनी गैर-मुस्लिम पत्नी को उसके धार्मिक त्योंहारों को मनाने से रोक देना
56 मुसलमान लोग अल्लाह के ईश्दूत ईसा का जन्म दिवस क्यों नहीं मनाते हैं जिस तरह कि वे अल्लाह के ईश्दूत मुहम्मद अलैहिस्सलातो वस्स्लाम का जन्म दिवस मनाते हैं?
57 वह अपने परिवार के साथ कैसे व्यवहार करे जो मीलादुन्नबी का उत्सव मनाते हैं और उसे अपने साथ भाग न लेने का ताना देते हैं?
58 काफिर का उसके त्योहार के दिन में उपहार स्वीकार करना
59 क्रिसमस के समय में मुसलमानों के जश्न मनाने और अपने घरों को गुब्बारों से सजाने का हुक्म
60 कुछ वार्षिक समारोहों में भाग लेने का हुक्म
61 उसका पति एक लंबे समय से उससे गायब था और जब वापस लौटा तो उसे गर्भवती पाया, तो उसे क्या करना चाहिए?
62 राफिज़ा को हुसैन की हत्या पर ताज़ियत करना
63 एक सुन्नी आदमी राफिज़ा की बातों से प्रभावित है और सच व ठीक बात की जानकारी में हैरान है
64 गर्भवती महिला के गर्भावस्था में रहने की सबसे लंबी अवधि
65 सुन्नियों और शियाओं के बीच मैत्री संभव नहीं है
66 यज़ीद बिन मुआविया के बारे में हमारा रुख
67 आशूरा का रोज़ा केवल छोटे गुनाहों को मिटाता है, बड़े गुनाहों के लिए तौबा ही है
68 जो व्यक्ति क़ुर्बानी को तश्रीक़ के दिनों तक विलंब करना चाहता है क्या उसके ऊपर अपने बाल और नाखून काटना निषिद्ध है?
69 उस आदमी का हुक्म जो क़ुर्बानी करता है जबकि वह नमाज़ का छोड़ने वाला है
70 क्या गैर शादीशुदा महिला के लिए अपनी तरफ से क़ुर्बानी करना जायज़ है
71 ''घर वालों'' का नियम क्या है जिनकी ओर से एक क़ुर्बानी काफी होता है
72 दस दिनों के बजाय (दस रातों) के उल्लेख की हिकमत (बुद्धिमत्ता) क्या है?
73 उसने ज़ुलहिज्जा के नौ रोज़े रखने की मन्नत मानी है और उसका पति उसे मना कर रहा है
74 ज़ुल-हिज्जा के दिनों में अप्रतिबंधित और प्रतिबंधित तक्बीर (अल्लाहु अक्बर कहना)
75 जो आदमी क़ुर्बानी करना चाहता है वह किन चीज़ों से उपेक्षा करेगा?
76 |अप्रतिबंधिति और प्रतिबंधित तक्बीर (उसकी प्रतिष्ठा, समय और विधि)
77 उसकी मृत्यु हो गई और उसने कोताही की वजह से हज्ज नहीं किया तो क्या उसकी ओर से हज्ज किया जायेगा?
78 क्या पति के लिए ज़रूरी है कि वह अपनी पत्नी को हज्ज कराए?
79 हदीस : ''जिसने हज्ज किया और अश्लीलता से उपेक्षा किया ...'' का अर्थ
80 हज्ज अनिवार्य हुक़ूक़ जैसे कफफारात और क़र्ज़ को समाप्त नहीं करता है।
81 ऐसे धन से हज्ज करना जो मूल रूप से व्याज पर आधारित ऋण है
82 क्या वह अपनी पत्नी की बीमारी की वजह से हज्ज को विलंब कर देगा
83 क्या हज्ज करने के बाद मुसलमान के पापों की क्षमा सुनिश्चित है या कि वह चिंतित और डरता हुआ रहेगा?
84 जिसने हज्ज या उम्रा में किसी दूसरे का प्रतिनिधित्व किया, क्या उसे उसके समान सवाब मिलेगा?
85 क्या उसके लिए सोने को गिरवी रखना जायज़ है ताकि वह और उसकी पत्नी हज्ज करने के लिए धन प्राप्त कर सकें?
86 क्या उस आदमी का हज्ज सही है जिसने अपना क़र्ज़ भुगतान नहीं किया है?
87 रमज़ान के दिन में शैतान को गाली देने का हुक्म
88 ''रमज़ान में तीस दिनों के लिए तीस दुआयें'' नामी पत्रक पर टिप्पणी
89 वह कुछ लोगों की ओर से दान करना चाहता है क्योंकि वह उनके प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को अच्छी तरह न निभाने के कारण अपने आपको दोषी महसूस कर रहा है
90 बिना किसी की जानकारी के बुराई के अड्डे को तोड़ना
91 क्या गंजापन उन दोषों में से है जिनके बारे में मंगेतर को सूचना देना अनिवार्य है?
92 जुमा के दिन की बधाई देने का क्या हुक्म है ?
93 वह अपनी कमज़ोरी की वजह से अपने छोड़े हुए रोज़ों की कज़ा करने की ताक़त नहीं रखती है।
94 रमज़ान का रोज़ा किस पर अनिवार्य है
95 हर रात वित्र में क़ुनूत पढ़ने पर पाबंदी करना
96  क्या एतिकाफ करनेवाला भाषण दे सकता और ज्ञान की मण्डली स्थापित कर सकता है?
97 क्या एतिकाफ करनेवाले के लिए मुसलमानों की आवश्यकताएं पूरी करने के लिए टेलीफोन से बात-चीत करना जायज़ है?
98 क्या जिसने तरावीह की नमाज़ की शुरूआत कर दी है उसके लिए उसे पूरा करना ज़रूरी है?
99 उसके पिता ने संतोषजनक कारणों के बिना उसे एतिकाफ करने की अनुमति नहीं प्रदान की
100 अगर रोज़ादार दिन के दौरान यात्रा करे तो उसके लि रोज़ा तोड़ना जायज़ है