सोमवार 10 मुहर्रम 1444 - 8 अगस्त 2022
हिन्दी

जुमा के दिन फ़ज्र की नमाज़ में हमेशा सूरतुस-सजदा और सूरतुल-इनसान पढ़ने का हुक्म

121175

प्रकाशन की तिथि : 08-02-2022

दृश्य : 231

प्रश्न

क्या प्रत्येक जुमा को फ़ज्र की नमाज़ में हमेशा सूरतुस-सजदा और सूरतुल-इनसान पढ़ना जायज़ हैॽ

उत्तर का पाठ

हर प्रकार की प्रशंसा और गुणगान केवल अल्लाह तआला के लिए योग्य है।.

“जुमा के दिन फ़ज्र की नमाज़ में सूरतुस-सजदा और सूरतुद-दह्र (सूरतुल-इनसान) का पाठ करना धर्मसंगत है, और हमेशा ऐसा करने में कोई आपत्ति की बात नहीं है। लेकिन अगर यह डर है कि कुछ लोग यह सोचेंगे कि इन दोनों (सूरतों) को हमेशा पढ़ना अनिवार्य है, तो उसके लिए धर्मसंगत यह है कि वह उन्हें कभी-कभी न पढ़े।” उद्धरण समाप्त हुआ।

अल-लजनह अद-दाईमह लिल-बुहूस अल-इल्मिय्यह वल-इफ़्ता (अकादमिक अनुसंधान और इफ्ता की स्थायी समिति)।

“फ़तावा इस्लामिय्याह” (1/417)।

और अल्लाह तआला ही सबसे अधिक ज्ञान रखता है।  

स्रोत: साइट इस्लाम प्रश्न और उत्तर