मंगलवार 18 मुहर्रम 1441 - 17 सितंबर 2019
हिन्दी

समय से पहले नमाज़ पढ़ना

प्रश्न

क्या इशा की नमाज़ को उसके निर्धारित समय पर पढ़ने के बजाय, उसे सोने से पहले पढ़ना जायज़ हैॽ कृपया प्रमाण सहित उल्लेख करें। धन्यवाद।

उत्तर का पाठ

हर प्रकार की प्रशंसा और गुणगान केवल अल्लाह तआला के लिए योग्य है।

अल्लाह तआला ने फरमाया :

 إن الصلاة كانت على المؤمنين كتاباً موقوتا

سورة النساء: 103 

"निःसंदेह नमाज़ मोमिनों पर एक निश्चित समय पर अनिवार्य है।'' [सूरतुन-निसा : 103]

अर्थात् एक समय के साथ विशिष्ट है। पाँचों नमाज़ों के समय का वर्णन विस्तार से प्रश्न संख्याः (9940) में किया जा चुका है।

''मुसलमानों की सर्वसहमति के अनुसार, समय से पहले नमाज़ पढ़ना सही (मान्य) नहीं है। यदि कोई व्यक्ति समय से पहले नमाज़ पढ़ता है :

- तो यदि वह ऐसा जानबूझकर करता है, तो उसकी नमाज़ व्यर्थ (अमान्य) है और वह पाप से सुरक्षित नहीं है।

- और अगर उसने जानबूझकर नहीं किया है क्योंकि उसने यह गुमान किया कि नमाज़ का समय शुरू हो गया है, तो वह पापी नहीं है, और उसकी नमाज़ को नफ्ल माना जाएगा। लेकिन उसे इस नमाज़ को दोहराना होगा क्योंकि नमाज़ की शर्तों में से एक शर्त समय का प्रवेश करना है।''

अश-शर्हुल मुम्ते (2/88) से शैख मुहम्मद बिन उसैमीन रहिमहुल्लाह की बात समाप्त हुई।

स्रोत: साइट इस्लाम प्रश्न और उत्तर

प्रतिक्रिया भेजें