मंगलवार 12 रबीउलअव्वल 1440 - 20 नवंबर 2018
Hindi

आधुनिक उपकरणों के द्वारा चाँद देखने में कोई आपत्ति नहीं है

प्रश्न

क्या नग्न आँखों के द्वारा ही चाँद देखना ज़रूरी है, या कि हम दूरबीन, आधुनिक उपकरणों और वेधशालाओं का उपयोग कर सकते हैं?

उत्तर का पाठ

हर प्रकार की प्रशंसा और गुणगान केवल अल्लाह के लिए योग्य है।

''शरीअत के प्रमाणों का प्रत्यक्ष अर्थ यह है कि लोगों को इन उपकरणों के द्वारा चाँद देखने का बाध्य न किया जाए, बल्कि आँख से देखना पर्याप्त है। किंतु जिसने उनके द्वारा चाँद देखा और वह इस बात से सुनिश्चित है कि उसने उसे उनके माध्यम से सूर्यास्त के बाद देखा है और वह एक न्याय प्रिय मुसलमान है तो मैं उसके चाँद देखने पर अमल करने में कोई रूकावट नहीं जानता हूँ, क्योंकि यह आँख की दृष्टि से है, हिसाब (गणना) के अध्याय से नहीं है।'' अंत हुआ।

फज़ीलतुश शैख अब्दुल अज़ीज़ बिन बाज़ रहिमहुल्लाह

स्रोत: साइट इस्लाम प्रश्न और उत्तर

प्रतिक्रिया भेजें