बुधवार 11 रबीउलअव्वल 1442 - 28 अक्टूबर 2020
हिन्दी

40389

01-06-2020

यदि शेष दिन पर्याप्त नहीं हैं तो क्या वह क़ज़ा करने से पहले शव्वाल के छ: रोज़े से शुरूआत करेगा ?

01-06-2020

39328

29-05-2020

शव्वाल के छ: रोज़ों के साथ रमज़ान की क़ज़ा को एक ही नीयत में एकत्रित करना शुद्ध नहीं है

29-05-2020

38355

23-05-2020

शव्वाल के महीने के दूसरे दिन रोज़ा रखना जायज़ है।

23-05-2020

39234

13-04-2020

रोज़े के फ़िद्या में खाना खिलाने के बदले पैसा निकालना जायज़ नहीं है

13-04-2020

26212

09-04-2020

जिस व्यक्ति पर रमज़ान के रोज़े हों, जिनकी संख्या उसे याद न हो

09-04-2020

202163

07-04-2020

उसने दो साल रोज़े नहीं रखे और अब वह क़ज़ा करने में असक्षम है, तो उसे क्या करना चाहिए?

07-04-2020

50651

12-04-2019

वह रोज़े की क़ज़ा शुरू करने से पहले गर्भवती होगई और वह रोज़ा रखने में सक्षम नहीं है

12-04-2019

26860

06-05-2018

रमज़ान के छूटे हुए रोज़ों की क़ज़ा करने की नीयत से शक के दिन रोज़ा रखना

06-05-2018

21710

24-04-2018

रोज़े की क़ज़ा में विलंब करना

24-04-2018

232694

21-04-2018

जो व्यक्ति बिना किसी उज़्र के रमज़ान का रोज़ा न रखे अथवा बीच रमज़ान में जानबूझ कर रोज़ा तोड़ दे तो क्या उस पर क़ज़ा करना अनिवार्य है?

21-04-2018

234125

20-04-2018

जो व्यक्ति बिना किसी उज़्र के रमज़ान का रोज़ा न रखे अथवा बीच रमज़ान में जानबूझ कर रोज़ा तोड़ दे तो क्या उस पर क़ज़ा करना अनिवार्य है?

20-04-2018

21049

31-08-2017

तश्रीक़ के दिनों में अनिवार्य रोज़े की क़ज़ा करना सही नहीं है

31-08-2017

7863

02-07-2017

क्या वह शव्वाल के छः रोज़े रखना शुरू कर सकता है जबकि उसके ऊपर रमज़ान की क़ज़ा बाक़ी है

02-07-2017

21697

16-05-2017

रमज़ान के रोज़ों की क़ज़ा में निरंतरता अनिवार्य नहीं है

16-05-2017

222445

03-07-2016

रोज़ों की क़ज़ा को विलंब करने का कफ़्फ़ारा रिश्तेदारों को भुगतान करने का हुक्म

03-07-2016