गुरुवार 18 रमज़ान 1440 - 23 मई 2019
हिन्दी

उसने रोज़ा रखा जबकि उसे मासिक धर्म से शुद्धता में संदेह था

प्रश्न

एक महिला ने रोज़ा रखा जबकि उसे मासिक धर्म से शुद्धता में संदेह था। जब उसने सुबह किया तो वह शुद्ध थी। क्या उसका रोज़ा स्थापित होगा जबकि वह अपनी पवित्रता के बारे में सुनिश्चित नहीं थी?  

उत्तर का पाठ

हर प्रकार की प्रशंसा और गुणगान केवल अल्लाह तआला के लिए योग्य है।

“उसका रोज़ा स्थापित नहीं होगा और उसके लिए उस दिन के रोज़े की क़ज़ा करना अनिवार्य है। क्योंकि मूल सिद्धांत यह है कि मासिक धर्म अभी भी चल रहा है और उसका शुद्धता का यक़ीन न होने के उपरांत भी रोज़े में प्रवेश करना, उसका इबादत में उसके सही होने की शर्त में संदेह के साथ प्रवेश करना है, और यह बात रोज़े के स्थापित होने को रोकती है।” उद्धरण का अंत हुआ।

आदरणीय शैख मुहम्मद बिन उसैमीन।

“मज्मूओ फतावा इब्न उसैमीन”, फतावा अस्सियाम (107. 108).

स्रोत: साइट इस्लाम प्रश्न और उत्तर

प्रतिक्रिया भेजें